जिस सामासिक पद में कारक चिह्नों अथवा पद बंद का लोप हो जाता है वहाँ तत्पुरुष समास होता है |
इसमें जिस कारक की विभक्ति के चिह्न का लोप होता है उसी के नाम पर तत्पुरुष का नामकरण होता है |

उदाहरण ….

कर्म कारक….
१ शरणागत ….शरण में आया

२ गगन चुम्बी ….गगन कों छूने वाला

३ ग्रन्थ कार …..ग्रन्थ कों रचने वाला

४ स्वर्ग प्राप्त ….स्वर्ग कों प्राप्त

करण तत्पुरुष …
१ मन चाहा …मन से चाहा

अकाल पीड़ित ….अकाल से पीड़ित

३ तुलसी कृत …तुलसी के द्वारा रचित

४ रस भरा ….रस से भरा

३ संप्रदान तत्पुरुष ….

१ मार्ग व्यय ….मार्ग के लिए व्यय

२ रसोई घर …रसोई के लिए घर

३ गुरु दक्षिणा ….गुरु के लिए दक्षिणा

४ कृष्णार्पण …कृष्ण के लिए अर्पण

४ अपादान तत्पुरुष —-

१ ऋण मुक्त …ऋण से मुक्त

२ पथ भ्रष्ट —-पथ से भ्रष्ट

३ देश निकाला….देश से निकाला

४ रोग मुक्त ….रोग से मुक्त

सम्बंध तत्पुरुष —–

१ राज पुत्र …..राजा का पुत्र

२ गंगा जल ….गंगा का जल

३ सेना पति ….सेना का पति

४ रामानुज ….राम का अनुज

अधिकरण तत्पुरुष —

१ नगर वास…..नगर में वास

२ देशाटन …..देश में अटन …{भ्रमण }

३ घुड सवार ….घोड़े पर सवार

४ वनवास …वन में वास