प्रशंसा करने में हिचकिए मत

By | April 19th, 2011|Hindi Blog & Stories|

प्रशंसा करने में हिचकिए मत - १ अच्छाइयों के प्रकाश में बुराईयों का अन्धकार स्वत: ही दूर हो जाता है २ प्रशंसा व्यक्ति के अंदर छिपी प्रतिभा को जाग्रत कर कर्म के प्रति उत्साह एवं लगन की भावना पैदा करती है ३ प्रंशसा ऐसा जहर है जिसे अल्प मात्रा में ग्रहण किया जाना चाहिए क्योकि [...]