जिस समास के दोनों शब्दों के बीच विशेषण -विशेष्य अथवा उपमान -उपमेय का सम्बन्ध हो ,उसे कर्म धारय समास कहते हैं |

उदाहरण _

विशेषण -विशेष्य ….
१ नील कमल ….नीले रंग का कमल
२ कृष्ण -सर्प ….काले रंग का सर्प

३ भला मानुष ….भला मनुष्य

४ पुरुषोत्तम ….पुरुषों में उत्तम

उपमेय -उपमान …..

१ चरण -कमल ….कमल रूपी चरण

२ चन्द्र मुख ….चन्द्रमा के समान मुख

३ विद्या -धन ….विद्या रूपी धन

४ नर -सिंह ….नरों में सिंह के समान

कर्म धारय और बहुव्रीहि समास में अंतर ….
कर्म धारय समास शब्दार्थ प्रधान होता है |इसमें एक पद दूसरे का विशेषण होता है |या दोनों में उपमान -उपमेय सम्बन्ध होता है |बहुव्रीहि समास में समस्त पद किसी अन्य संज्ञा का विशेषण होता है |