[ultimatemember form_id=12643]
/Content

कलम

By | 2017-09-25T12:29:44+00:00 July 16th, 2011|Hindi Blog & Stories|

कलम ------ कलम देश की बड़ी शक्ति है भाव जगाने , दिल की नहीं दिमागों में भी आग लगाने वाली | पैदा करती कलम विचारों के जलते अंगारे , और प्रज्वलित प्राण देश क्या कभी मरेगा मारे | लक्ष्य गर्म रखने को मन में ज्वलित विचार , हिंस्र जीव से बचने को चाहिए किन्तु तलवार [...]

संत और असंतों की पहचान

By | 2017-09-25T12:32:02+00:00 July 16th, 2011|Hindi Blog & Stories|

संत और असंतों की पहचान ----- १  संत असंतन की अस करनी | जिमि कुठार चन्दन आचरणी || {संत और असंतों में वही अंतर है जो कुल्हाड़ी और चन्दन में है |कुल्हाड़ी चन्दन के वृक्ष को काटती है ,तो चन्दन उसे अपनी खुशबू से भर देता है | अर्थात संत व्यक्ति बुराई करने पर भी [...]

उत्तर कांड ….उत्तम कांड

By | 2017-09-25T12:32:14+00:00 July 16th, 2011|Hindi Blog & Stories|

उत्तर कांड  {राम चरित मानस } राम चरित मानस का बखान करना ईश्वर की तरह अनन्त है |यह वह ग्रन्थ है जिस में शिक्षित, साक्षर ,निरक्षर डूब -डूब जाते हैं | भक्ति की दृष्टि से ,साहित्य की दृष्टि से सामाजिक ,राजनैतिक दृष्टि से हर क्षेत्र में अनूठा है |भक्ति का तो सागर है ,इस क्षेत्र [...]

तराजू

By | 2017-09-25T12:32:24+00:00 July 5th, 2011|Hindi Blog & Stories|

तराजू --------- जब भी मैं तराजू की कांपती डंडी को कभी इधर तो कभी उधर झुक कर संतुलन बनाते देखती हूँ तो मुझे हर उस नारी की याद आ जाती है जो अपना सम्पूर्ण जीवन संतुलन बनाने में लगा देता है |इस संतुलन को बनाए रखने में उसे क्या -क्या सहना पड़ता है ,क्या क्या [...]

अंतिम शब्द

By | 2017-09-25T12:32:33+00:00 June 22nd, 2011|Hindi Blog & Stories|

अन्तिम शब्द महा पुरुषों के अन्तिम शब्द आप्त वचनों की तरह याद किए जाते हैं | यद्यपि कोई व्यक्ति यह सोच कर नहीं बोलता कि ये उसके अन्तिम शब्द होंगे | अन्तिम शब्द कभी जीवन का सार बन कर प्रकट होते हैं तो कभी व्यक्ति का मनोविश्लेषण करते हुए प्रतीत होते हैं | अन्तिम शब्द [...]

आओ कार चलाना सीखें

By | 2017-09-25T12:32:42+00:00 June 21st, 2011|Hindi Blog & Stories|

" आओ कार चलाना सीखें " आज की इस भागम -भाग की जिंदगी में यदि किसी को निजी वाहन चलाना न आता हो ,तो वह हाथ -पैर होते हुए भी अपंग के समान हो जाता है | कहीं जाना है ,कुछ कार्य करना है तो या तो घंटों बस के इंतजार में खड़े रहिए या [...]

बाबा राम देव पर हमला

By | 2017-09-25T12:33:15+00:00 June 5th, 2011|Hindi Blog & Stories|

बाबा राम देव पर हमला ---------------- ४ जून की अर्द्ध रात्रि को बाबा के अनसन और भ्रष्टाचार के खिलाफ विरोध पर पुलिस के द्वारा की गई कार्यवाही को क्या कहा जाए ? ऐसा बर्बर प्रदर्शन तो गुलामी के समय में ही होता था | इस सरकार ने यह दिखा दिया कि वे अंग्रेजो से कम [...]

हमको लिखो है कहा

By | 2017-09-25T12:33:27+00:00 June 4th, 2011|Hindi Blog & Stories|

" हमको लिखो है कहा  !" पत्र ,पाती ,खत ,चिठ्ठी ,चिठिया जितने नाम उससे भी कहीं अधिक भावों को अभिव्यक्त करते हैं ,ये शब्द | डाकिया  {पोष्ट मैन }को देखते ही आशा का भाव जाग्रत होता है ,दिल की धड़कने बढ़ जाती है | क्षण भर में कई भावों का समावेश हो जाता है |एक [...]

उत्तर कांड {राम चरित मानस }

By | 2017-09-25T12:33:37+00:00 June 4th, 2011|Hindi Blog & Stories|

उत्तर कांड  {राम चरित मानस } राम चरित मानस का बखान करना ईश्वर की तरह अनन्त है |यह वह ग्रन्थ है जिस में शिक्षित, साक्षर ,निरक्षर डूब -डूब जाते हैं | भक्ति की दृष्टि से ,साहित्य की दृष्टि से सामाजिक ,राजनैतिक दृष्टि से हर क्षेत्र में अनूठा है |भक्ति का तो सागर है ,इस क्षेत्र [...]

प्रमुख लोगों की दुर्बलताएँ

By | 2017-09-25T12:33:45+00:00 May 22nd, 2011|Hindi Blog & Stories|

प्रमुख-लोगों-की-दुर्बलताएँ युधिष्ठिर.....क्षत्रिय कुल में जन्म लेकर भी युद्ध के प्रति घोर वितृष्णा मेरे चरित्र की दुर्वलता है | अर्जुन .......माँ के वचन रख कर मैंने द्रोपदी के साथ ;विवाह किया ;इस बात पर मन में क्षोभ होता है |मन करता है वह सिर्फ मेरी होती |यह सोचना मेरे चरित्र की दुर्वलता है | भीम .......भोजन [...]

Pin It on Pinterest