१ देख लो साकेत नगरी है यही स्वर्ग से मिलने गगन में जा रही | २ हनुमान की पूंछ में लग न पाई आग | लंका सारी जल गई गए निशाचर भाग | ३ देखो नदिया पड़ी अपार घोड़ा कैसे उतरे पार राना ने सोचा इस पार तब तक चेतक था उस पार |